नेपाल में नेपाली कांग्रेस की सरकार है। शेर बहादुर देउबा को पीएम बने 13 अगस्त को एक महीने हुए हैं। इससे पहले केपी शर्मा ओली पीएम थे। उनके पीएम रहते भारत-नेपाल के बीच संबंधों में खटास आई थी। अब नेपाली कांग्रेस ने भारत और चीन को लेकर कहा है कि चीन एक ‘स्पेशल’ पड़ोसी के रूप में भारत की जगह नहीं ले सकता। पार्टी ने लिम्पियाधुरा-कालापानी-लिपुलेख मसले को बातचीत के जरिए सुलझाने पर जोर दिया है। हाल ही में पीएम देउबा ने अपने गठबंधन के सहयोगियों से मिलकर साझा न्यूनतम कार्यक्रम शुरू किया है। नेपाल ने पिछले साल लिम्पियाधुरा-कालापानी-लिपुलेख इलाके को अपने मानचित्र में जोड़ते हुए इस क्षेत्र पर अपना दावा किया था।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट मुताबिक नेपाल के पूर्व वित्त राज्य मंत्री और नेपाली कांग्रेस के वरिष्ठ नेता उदय शमशेर राणा ने कहा है नेपाल ‘पड़ोसी पहले’ के सिद्धांत पर काम करता रहेगा। इसके साथ ही और देशों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध बनाए रखेगा। उन्होंने कहा है, ‘नेपाल को बीजिंग की ज़रूरत है और चीन हमारा अच्छा पड़ोसी रहा है लेकिन भारत स्पेशल है। चीन, भारत की जगह नहीं ले सकता।’ उन्होंने आगे कहा कि पीएम देउबा को मसलों को बेहतर से हल करना होगा क्योंकि वह एक नाजुक गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं। देउबा को गठबंधन सहयोगियों को साथ लेते हुए भारत के साथ-साथ चीन के साथ स्थिर संबंध बनाए रखना होगा।

Leave a Reply