जयपुर में 1 जून को दिनदहाड़े एक फ्लैट से दो सगी बहनों का अपहरण कर किसी और जगह गैंगरेप की वारदात में शामिल आरोपियों से पूछताछ जारी है। मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने गैंगरेप की पीड़िताओं की सगी बड़ी बहन, उसके बॉयफ्रेंड, एक परिचित की गिरफ्तारी के अलावा तीन नाबालिग लड़कों को पकड़ा था। प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया कि 18 साल से कम उम्र के तीन लड़कों ने फेसबुक पर हुई अनबन का बदला लेने के लिए दोनों सगी बहनों से गैंगरेप किया। बड़ी बहन के अफेयर में बाधा बन रही थी दोनों, इसलिए बड़ी बहन और उसके बॉयफ्रेंड ने भी आरोपियों का साथ दिया।

डीसीपी (पूर्व) अभिजीत सिंह के मुताबिक दोनों बहनें पिछले दो महीने से जयपुर में प्रताप नगर इलाके में फ्लैट में रह रही थी।

इस दौरान आरोपी नाबालिगों ने फेसबुक के जरिए पीड़िता के मोबाइल नंबर लेकर बातचीत की कोशिश की। तब पीड़िता ने आरोपी को फटकार दिया। इस अनबन की वजह से नाबालिग ने अपने साथियों के साथ मिलकर दोनों बहनों को सबक सिखाने की ठान ली।

पुलिस की जांच में सामने आया कि तीनों नाबालिगों ने दुष्कर्म की शिकार पीड़िताओं की बड़ी बहन के बॉयफ्रेंड दयाराम मीणा (25) से संपर्क किया। आरोपी दयाराम की मदद से उनको पता चला कि दोनों बहनें प्रताप नगर में एक अपार्टमेंट में फ्लैट लेकर रह रही है । तब 1 जून को शाम करीब 4 बजे तीनों नाबालिग और उनका साथी रविंद्र मीणा (21) फ्लैट पर पहुंचे। जहां आरोपियों ने पिस्तौल कनपटी पर लगाकर दोनों सगी बहनों का अपहरण कर लिया।

उनको जबरन बाइक पर बैठाकर जगतपुरा स्थित एक मकान पर ले गए। वहां बारी बारी से आरोपियों ने दोनों बहनों से गैंगरेप किया।

पीड़िता बहनों ने बयान में बताया कि गैंगरेप के बाद रात करीब 8 बजे आरोपी उनको फ्लैट पर छोड़कर चले गए। उन्होंने दोनों बहनें को धमकाया कि वे किसी को कुछ बताएंगी तो उनको जान से मार देंगे। ऐसे में दोनों बहनें एकबारगी डर गई दो दिन बाद उन्होंने प्रताप नगर थाने पहुंचकर चार युवकों के खिलाफ केस दर्ज करवाया। इनमें दो आरोपियों के नाम भी बताए। जिनको वे फेसबुक पर दोस्ती की वजह से पहचानती थी। वारदात के बाद एएसपी राजऋषि वर्मा, एसीपी पुलिस ने मोबाइल कॉल डिटेल्स और अन्य आधार पर आरोपियों का पता लगाया और कल सभी आरोपियों को गिरफ्त में लिया।

बड़ी बहन और उसके बॉयफ्रेंड ने दिया साथ

पुलिस जांच में सामने आया है कि गैंगरेप की शिकार हुई दोनों लड़कियों की बड़ी बहन भी जयपुर में अपने बॉयफ्रेंड दयाराम मीणा के साथ रह रही थी। इसका दोनों बहनें विरोध कर चुकी थी। उन दोनों को बड़ी बहन का दयाराम के साथ रहना पसंद नहीं था। ऐसे में बड़ी बहन और दयाराम ने भी दोनों पीड़िताओं से बदला लेने के लिए गैंगरेप में शामिल आरोपियों का सहयोग किया। उनको पीड़िताओं के घर का पता बताया। वहां तक पहुंचाया। पुलिस मामले में और ज्यादा गहराई से पूछताछ कर रही है।

Leave a Reply