कोटा ( देश न्यूज़)। ग्रामीण इलाके के सुकेत थाना क्षेत्र के जुल्मी कस्बे में शनिवार को खदान में डूबे युवक का शव दूसरे दिन बाहर निकाला गया है। निगम की रेस्क्यू टीम के गोताखोरों ने 35 मिनट तक स्कूबा डाइविंग के बाद 40 फीट गहराई से शव को रेस्क्यू किया। शव को सुकेत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की मोर्चरी में पोस्टमार्टम के लिए रखवाया है। शुरुआती जांच में बकरियां चराने के दौरान पैर फिसलने से विक्रम सिंह के खदान में गिरने की बात सामने आई है।

जानकारी के मुताबिक मृतक विक्रम सिंह (32) अपने परिवार के साथ खदान पर ही एक क्वाटर में रहता था। उसके एक बेटी (8) ओर एक बेटा (6) है। वो खदान की चौकीदारी करता था। कुछ समय पहले ही अपनी जीविका चलाने के लिए बकरियां लेकर आया था। शनिवार सुबह करीब 10 बजे विक्रम सिंह, खदान के ऊपर बकरियां चरा रहा था। उसके साथ उसकी पत्नी भी थी लेकिन वह दूर थी। बकरियां चराने के दौरान विक्रम का पैर फिसल गया। वो करीब 80 फीट ऊपर से नीचे खदान में गिर गया। खदान बंद थी उसमें पानी भरा था। नीचे गिरने से वो पानी में डूब गया। मौके पर उसकी चप्पल तैरती हुई मिली। तो परिजनों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने कोटा से गोताखोर रेस्क्यू टीम को बुलाया।

नगर निगम कोटा रेस्क्यू टीम इंचार्ज विष्णु श्रृंगी ने बताया कि उनकी 18 लोगों की टीम शनिवार को दोपहर 4 बजे मौके पर पहुंची थी। और रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया था। नाव की मदद ने 40 फीट गहरी खान में 2 गोताखोरों ने ऑक्सीजन किट पहन कर पानी की सतह पर सर्च किया था। रात होने पर सर्च अभियान रोक दिया गया था। रात उनकी टीम पंचायत समिति में ही रुकी । आज सुबह जल्दी सर्च ऑपरेशन शुरू किया। गोताखोरों ने ‘स्कूबा डाइविंग की । लगभग 35 मिनट की स्कूबा डाइविंग में शव को रेस्क्यू किया। विष्णु श्रृंगी ने बताया कि खदान का पानी ठंडा था, टीम के साथियों ने 10 घण्टे पानी में रहकर सर्च ऑपरेशन पूरा किया।

Leave a Reply