नई दिल्ली: नवजात बच्चों के लिए उनकी मां का दूध (Breast Milk Benefits) बेस्ट माना जाता है. इससे उनका शारीरिक और मानसिक विकास बेहतर तरीके से होता है. इसीलिए कोशिश की जाती है कि हर बच्चे को उसकी मां का दूध जरूर मिले. कई बार कुछ विशेष परिस्थितियों में बच्चे को मां का दूध नसीब नहीं हो पाता है (Breastfeeding Kids). इसीलिए अब इस समस्या को सुलझाने के लिए ब्रेस्ट मिल्क (Breast Milk Production) को भी मार्केट में लाने की तैयारी की जा रही है.

लैब में तैयार होगा ब्रेस्ट मिल्क

2021 तक टेक्नोलॉजी (Technology) का इतना विकास हो चुका है कि अब ब्रेस्ट मिल्क (Breast Milk In Lab) को भी लैब में तैयार करने की प्लानिंग चल रही है. इसके लिए तरीका भी ईजाद कर लिया गया है. बायोमिल्क (Biomilk) नाम के एक स्टार्ट-अप (Start Up Company) ने महिलाओं की स्तन कोशिकाओं (Breastfeeding Mother) से दूध को तैयार करने में कामयाबी पाई है. खास बात है कि इस कंपनी में स्टाफ के तौर पर ज्यादातर महिलाएं ही कार्यरत हैं.

मां के दूध की तरह पौष्टिक है लैब मिल्क

इस स्टार्ट-अप कंपनी (Start Up Company) की मानें तो लैब में तैयार किए गए दूध में काफी हद तक वे सभी पौष्टिक तत्व (Breast Milk Nutrients) मौजूद हैं, जो आमतौर पर ब्रेस्ट मिल्क में पाए जाते हैं. कंपनी का दावा है कि मैक्रोन्यूट्रिएंट प्रोफाइल के हिसाब से देखा जाए तो इसमें उन सभी प्रकार के प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फैटी एसिड्स और बायोएक्टिव लिपिड्स (Bioactive Lipids) मौजूद हैं, जो मां के दूध में भी होते हैं. लेकिन इन दोनों तरह के दूध में एंटीबॉडीज का अंतर है.

मार्केट में आने में लगेगा इतना समय

इस कंपनी की को-फाउंडर और चीफ साइंस ऑफिसर (Chief Science Officer) डॉक्टर लीला स्ट्रिकलैंड ने फोर्ब्स के साथ बातचीत में कहा कि हमने अपने प्रोडक्ट को काफी हद तक ब्रेस्ट मिल्क (Breast Milk Production) की तरह बनाने की ही कोशिश की है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि जितना अच्छा मां का दूध होता है, उतना अच्छा तो कुछ भी नहीं हो सकता है. कंपनी की कोशिश है कि अगले तीन सालों में इस दूध को मार्केट में लॉन्च कर दिया जाए.

 

Leave a Reply