कोटा। द अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन की ओर से कोटा मेडिकल कॉलेज को 300 सिंगल यूज वेंटीलेटर और 150 मल्टी यूज मॉनीटर्स मिले हैं। मेडिकल कॉलेज के निश्चेतना विभाग के डॉक्टरों ने आर्टिफिशियल लंग्स पर डेमो कर लिया है। ये दोनों ही उपकरण बेहद उपयोगी माने गए हैं और आने वाले समय में इनका यूज भी किया जाएगा। एनेस्थीसिया विभाग के प्रोफेसर डॉ. संजय कालानी ने इनके यूज के बारे में पूरी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वेंटीलेटर वाले मरीज के शिफ्टिंग के वक्त इनका यूज किया जाएगा, अब तक इसके लिए पोर्टेबल वेंटीलेटर की जरूरत होती है।
मरीज जयपुर तक आसानी से शिफ्ट किए जा सकेंगे-डॉ. कालानी ने बताया कि हमने इनका आर्टिफिशियल लंग्स पर डेमो कर लिया है। किसी रोगी को वेंटीलेटर पर एमबीएस से नए अस्पताल में शिफ्ट करना है या रोगी को सीटी स्कैन या रूक्रढ्ढ जैसी जांच कराने भेजना है, ऐसे में पोर्टेबल वेंटीलेटर युक्त एंबुलेंस चाहिए होती है या फिर अंबु बैग के जरिए बहुत रिस्की प्रक्रिया से मरीज को शिफ्ट कराना होता है। अब यह डिवाइस सीधे नॉर्मल ऑक्सीजन सिलेंडर से कनेक्ट हो जाएगी और साथ में मॉनीटर पर सारे पैरामीटर सेट किए जा सकेंगे। इसके जरिए मरीज को कोटा से जयपुर तक भी आसानी से शिफ्ट कराया जा सकता है।
विषम परिस्थितियों में ढ्ढष्ट में यूज कर सकते हैं-डॉ. कालानी ने बताया कि विषम परिस्थितियों में इस डिवाइस को ढ्ढष्ट में भी यूज किया जा सकता है, लेकिन वह अधिकतम 24 घंटे तक ही संभव है।
राज्य को मिले 6 हजार वेंटीलेटर व 3 हजार मॉनीटर-उपकरणों के लोकार्पण को लेकर शुक्रवार को हुए वर्चुअल समारोह में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन केे सहयोग के लिए साधुवाद व्यक्त किया।

Leave a Reply