कोरोना की रोकथाम और इलाज को लेकर राजस्थान की सरकार शुरुआत से ही अति संवेदनशील है । लगातार अस्पतालों में संसाधनों को बढ़ाया जा रहा है । ऑक्सीजन की उपलब्धता को लेकर भी राजस्थान सरकार ने अभूतपूर्व निर्णय लेकर ऑक्सीजन के क्षेत्र में राजस्थान को आत्मनिर्भर बनाने के प्रोजेक्ट जमीन पर उतार दिए। वही कोरोना की तीसरी लहर आहट से ही सरकार अति संवेदनशीलता के साथ बचाव को लेकर आगे बढ रही हैं । ब्लैक फंगस के मामले सामने आते ही राजस्थान ने सबसे पहले महामारी घोषित कर चिरंजीवी योजना शामिल कर प्रदेश की जनता के लिए हरसंभव प्रयास में कोई कमी नही छोड़ी हैं । सरकार संकल्प के साथ अपना दायित्व निभा रही है ।
नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने बयान जारी कर कहा है कि कोटा में भी लगातार अधिकारियों से संपर्क साथ कर तीसरी लहर को लेकर प्रभावी रोकथाम इलाज की तैयारियों को लेकर लगातार फीडबैक लिया जा रहा है। इसके साथ ही ब्लैक फंगस के इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य वह चिकित्सा विभाग के अधिकारियों से इलाज के लिए की गई व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं। संसाधनों एवं दवाइयों की आवश्यकता होने पर उपलब्धता के लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हैं।
लापरवाही नहीं, गाइडलाइन की पालना करें
मंत्री शांति धारीवाल ने लॉक डाउन के बाद कोटा में भी कोरोना रोगियों की संख्या में आई कमी पर कोरोना की दूसरी लहर ने जो कहर बरपाया है उसका दर्द भुलाया नहीं जा सकता। सरकार ने इस नाजुक वक्त में अस्पतालों में संसाधनों में बढ़ोतरी करने में कोई कमी नहीं छोड़ी है। हमने कई अपनों को खोया है, जो भी लोग कोरोना का शिकार हुए हैं मेरी पीड़ित परिवारों के साथ गहरी संवेदनाएं हैं।
उन्होंने तीसरी लहर को लेकर सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन की पालना गंभीरता के साथ करने की आमजन से अपील की है। ब्लैक फंगस को लेकर भी अपील कर रहा हूं कि बीमारी के शुरुआती लक्षण में ही इलाज के लिए अस्पताल में संपर्क करें । सरकारी अस्पताल में इलाज के लिए वार्ड स्थापित कर विशेष टीम को गठित कर तैनात किया गया है तथा कुछ प्राइवेट अस्पतालों को भी ब्लैक फंगस के इलाज के लिए चयनित किया गया है जहां चिरंजीवी योजना के तहत रोगियों का इलाज किया जा रहा हैं।
उन्होंने कहा कि कोटा के अस्पतालों में भी अब बेड की उपलब्धता हो रही है। कोटा को ऑक्सीजन में आत्मनिर्भर बनाने के लिए जो प्रोजेक्ट लाए गए हैं वह जल्द पूरे होंगे, प्रोजेक्ट तैयार करने वाली टीमें कोटा पहुंच गई है और उन्होंने अपना काम भी शुरू कर दिया है । मेडिकल कॉलेज अस्पताल में आईसीयू और ऑक्सीजन बेड की संख्या में भी बढ़ोतरी की जा रही हैं जिससे गम्भीर रोगियों के इलाज में सुविधा मिलेगी।
निशुल्क भोजन की व्यवस्था जारी
मंत्री शांति धारीवाल ने कहा है कि राजस्थान की सरकार कोई भूखा ना सोए संकल्प के साथ जरा रसोई के माध्यम से जरूरतमंदों को निशुल्क भोजन मुहैया करवा रही है कुछ दिनों से इंदिरा रसोई संचालकों द्वारा भोजन के पैसे लेने की शिकायत भी सामने आई है लेकिन इंदिरा रसोई संचालकों को चेतावनी दे रहा हूं कि अगर इंद्रा रसोई पर पहुंचे जरूरतमंद को निशुल्क भरपेट भोजन नहीं करवाया गया तो उसका लाइसेंस सरकार तुरंत प्रभाव से निरस्त करेगी।
ग्रामीण इलाकों में हो पुख्ता प्रबंध
मंत्री शांति धारीवाल ने कोटा शहर के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में भी स्वास्थ्य केंद्रों पर चिकित्सा व्यवस्था को पुख्ता रखने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। स्वास्थ्य केंद्रों पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर सहित अन्य संसाधनों को सुनिश्चित किए जाने के साथ जागरूकता अभियान और होम आइसोलेट रोगियों को समय पर दवाइयां पहुंचाने और सर्वे के दौरान चिन्हित गंभीर रोगी को तुरंत इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाने के निर्देश चिकित्सा विभाग को दिए हैं ।

Leave a Reply