लोकसभा अध्यक्ष ने किया लाखेरी, केशवरायपाटन, करवर, बूंदी नमाना और डाबी के स्वास्थ्य कोरोना योद्धा सैनिकों से संवाद
कोटा, 23 मई। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने रविवार को बूंदी जिले के लाखेरी, केशवरायपाटन, करवर, बूंदी शहर, नमाना और डाबी क्षेत्र के स्वास्थ्य कोरोना योद्धा सैनिकों से संवाद किया। इस दौरान बिरला ने कहा कि जनता को स्वस्थ रखना हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता है। इसी कारण हम ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बनाने का प्रयास कर रहे हैं। हमारा प्रयास है कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी उपचार की सभी समुचित व्यवस्थाएं और साधन उपलब्ध हों।
बिरला ने कहा कि हम कोरोना संक्रमण को रोक सकते हैं और संक्रमित हुए व्यक्तियों को स्वस्थ भी कर सकते है। लेकिन इसके लिए जरूरी है कि हम कोविड गाइडलाइंस की सख्ती से पालना करें। हमें सामुहिक प्रयास कर लोगों को मास्क पहनने, हाथों को सैनेटाइज करने तथा सामाजिक दूरी बनाने के लिए जागृत करना होगा। वहीं संक्रमित व्यक्तियों को आइसोलेट कर उनके समुचित उपचार की व्यवस्था करनी होगी।
बिरला ने कहा कि पहली लहर के बाद जब केसों की संख्या में कमी आई तो हम लापरवाह हो गए। लेकिन इस बार हमें सजग-सतर्क रहना है। इस बार भी केसों की संख्या कम होने लगी है, लेकिन यदि हम बेपरवाह हुए तो कोरोना फिर लौट सकता है। कोरोना जब तक देश के एक भी व्यक्ति में मौजूद है तो मान के चलिए कि खतरा बरकरार है।
उन्होंने कहा कि हमें कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ना है। हम प्रयास करेंगे तो यह संक्रमण भी खत्म होगा। इसलिए प्रयास करें कि सबसे पहले कोटा-बूंदी में ही संक्रमण खत्म हो और यहां का एक-एक व्यक्ति स्वस्थ हो।
आक्सीजन का स्तर बढ़ाने के लिए सीने के बल लेटाएं
संवाद कार्यक्रम के दौरान वरिष्ठ चिकित्सक डा. के.के. पारीक ने स्वास्थ्य कोरोना योद्धा सैनिकों को कोविड से संबंधित सामान्य जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यदि किसी का आक्सीजन लेवल कम है तो उसे प्रेनिंग पाजीशन में सीने के बल लेटाएं। इससे आक्सीजन के स्तर पर सुधार होगा। इसके अलावा मरीज को आसइसोलेट कर उचित दवाएं समय-समय पर दें। यदि पांच दिन बाद भी बुखार बना रहता है या आक्सीजन का स्तर 94 से कम जाता है तो तुरन्त डाक्टर से सम्पर्क करें।

Leave a Reply