नई दिल्ली: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड या सीबीएसई ने कक्षा 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के लिए दो विकल्प सुझाए हैं, जिन्हें कोविड संक्रमण की दूसरी लहर को देखते हुए टाल दिया दिया गया था। हालांकि परीक्षा किस फॉर्मेट में होगी, कब होगी और कैसे होगी इसकी जानकारी शिक्षा मंत्री निशंक एक जून को देंगे।


केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक. Twitter

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के नेतृत्व में मंत्रियों के एक समूह के समक्ष आज दोपहर एक प्रस्तुति दी गई। सूत्रों ने कहा कि सरकार एक लघु प्रारूप परीक्षा का पक्ष ले सकती है और राज्य बोर्डों को अपना निर्णय लेने की अनुमति दी जाएगी। सूत्रों की माने तो पिछली साल कोविड प्रोटोकॉल में जैसे जुलाई में परीक्षा हुई थी, इस बार भी जुलाई में होने की संभावना है।

पहले विकल्प के तहत, परीक्षा तीन महीने की अवधि के भीतर आयोजित की जा सकती है – परीक्षा पूर्व गतिविधियों के एक महीने और परीक्षा व परिणामों की घोषणा के लिए दो महीने का समय दिया जाएगा। कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए और 30 दिनों की अनुमति दी जाएगी। परीक्षा केवल प्रमुख विषयों के लिए आयोजित की जाएगी और छोटे विषयों के लिए अंक प्रमुख विषयों में प्रदर्शन के आधार पर आवंटित किए जाएंगे।

दूसरे विकल्प के तहत 19 प्रमुख विषयों में 90 मिनट की परीक्षा होगी। छात्रों को केवल एक भाषा और तीन वैकल्पिक विषयों में उपस्थित होना है। इन विषयों में उनके प्रदर्शन के आधार पर जैसा भी मामला हो, 5वीं और 6वीं विषयों के परिणाम का मूल्यांकन किया जाएगा।

Leave a Reply