भारत में जारी टीके की कमी को दूर करने के लिए भारत बायोटेक ने कमर कस ली है। कंपनी के संयुक्त प्रबंध निदेशक सुचित्रा एला के अनुसार, भारत बायोटेक ने गुरुवार को घोषणा की है कि वह गुजरात में अपनी रेबीज वैक्सीन सुविधा में कोवैक्सिन की अतिरिक्त खुराक का निर्माण करेगी। अगले चार महीने में इसमें तेजी आने की उम्मीद है। इससे कोविड वैक्सीन क्षमता एक महीने में 1.7 करोड़ खुराक बढ़ जाएगी। 

हैदराबाद की कंपनी ने अपनी चिरोन बेहरिंग वैक्सीन सुविधा का उपयोग करने का निर्णय लिया है, जिसे उसने 2019 में रेबीज के टीके बनाने के लिए ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन से हासिल किया था। इससे कोविड -19 वैक्सीन के निर्माण में तेजी लाने में मदद मिलेगी। आपको बता दें कि भारत बायोटेक ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के साथ संयुक्त रूप से कोवैक्सिन विकसित किया है।

कंपनी ने एक बयान में कहा, “कंपनी की योजना जीएमपी सुविधाओं में प्रति वर्ष कोवैक्सिन की 20 करोड़ खुराक का उत्पादन करने की है जो पहले से ही निष्क्रिय वेरो सेल प्लेटफॉर्म टेक्नोलॉजी पर आधारित टीकों के उत्पादन के लिए चालू हैं।” .आपको बता दें कि उत्पाद 2021 कैलेंडर वर्ष (अक्टूबर) की चौथी तिमाही से उपलब्ध होने की उम्मीद है।

इससे पहले, कंपनी ने हैदराबाद और बेंगलुरु में अपनी सुविधाओं में कोवैक्सिन की एक वर्ष में 70 करोड़ खुराक बनाने की क्षमता की व्यवस्था की थी। इसका मतलब यह होगा कि कुल मासिक क्षमता लगभग 5.8 करोड़ खुराक होगी। हालांकि, कंपनी अभी भी इस अधिकतम क्षमता तक पहुंचने के लिए अपना उत्पादन बढ़ाने की प्रक्रिया में है।

भारत बायोटेक के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक डॉ कृष्णा एला ने पिछले महीने एनडीटीवी को दिए एक साक्षात्कार के दौरान कहा कि हैदराबाद वैक्सीन निर्माता अप्रैल में एक महीने में 2 करोड़ खुराक की क्षमता को छूने में कामयाब रहा और मई में लगभग 30-35 मिलियन खुराक बनाने की उम्मीद कर रहा था। भारत बायोटेक की अतिरिक्त सुविधा अगस्त और दिसंबर के बीच भारतीय आबादी के लिए उपलब्ध कोविड-19 टीकों की खुराक बढ़ाने के सरकार के लक्ष्य में योगदान करने की उम्मीद है।

Leave a Reply