फोटो-चिकित्सा संस्थानों के प्रभारी अधिकारियों की बैठक लेते अतिरिक्त कलक्टर शहर

डोर-टू-डोर सर्वे में कोई भी आवास नहीं छूटे- एडीएम सिटी
कोटा 19 मई। अतिरिक्त कलक्टर शहर आरडी मीणा की अध्यक्षता में बुधवार को सभी चिकित्सा संस्थानों के प्रभारी अधिकारियों की बैठक आयोजित कि गई जिसमें शहरी क्षेत्रों में डोर-टू-डोर सामुदायिक सर्वे कर बिमारी के लक्षण के आधार पर दवा उपलब्ध कराने के निर्देष प्रदान किये गये।

अतिरिक्त कलक्टर ने कहा कि डोर-डोर-टू सर्वे को गम्भीरता से लेते हुए सभी चिकित्साधिकारी टीम भावना से कार्य करें। सर्वे के दौरान कोई भी रहवास वंचित नहीं रहे सर्वे टीम को प्रषिक्षण देकर बिमारी के लक्षणों के आधार पर दवाऐं प्रदान कर कोविड़ संक्रमण से बचाव के बारे में भी जानकारी दिलाऐं। उन्होंने कहा कि नागरिकों का सर्वे के दौरान ऑक्सीजन लेवल की जांच करने के लिए पल्स ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराया जायेगा जिससे कोविड़ रोगियों का पता लगाया जा सके। उन्होंने कहा कि सर्वे टीम को इस प्रकार प्रषिक्षित करें कि कोविड़ के लक्षणों का पता लगाकर पहचान कर सकें। कोविड संक्रमण को रोकने के लिए आवष्यक उपायांे की जानकारी देकर लोगों को जागरूक कर सके।

उन्होंने बताया कि डोर-टू-डोर सर्वे के लिए चिकित्सा विभाग के कार्मिक, आषा, एएनएम, आंगनबाडी कार्यकर्ता, बीएलओ एवं नर्सिंग विद्यार्थियों को लगाया गया है। इसमें किसी भी कार्मिक द्वारा लापरवाही पाये जाने पर चिकित्सा संस्थान प्रभारी सम्बन्धित विभाग के अधिकारी के ध्यान में प्रकरण लावें। उन्होंने आंगनबाडी कार्यकर्ताओं द्वारा सहयोग नहीं किये जाने पर सीडीपीओ को ऐसे सभी कार्यकर्ताओं को नोटिस जारी करने के निर्देष दिये।

उपमुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. घनष्याम मीणा ने प्रजेन्टेषन के माध्यम से डोर-डोर-सर्वे के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों एवं नागरिकों से ली जाने वाली जानकारी के बारे में विस्तृत रूप से बताया। उन्होंने कहा कि सर्वे के दौरान परिवार के सीाी सदस्यों के बारे में जानकारी ले तथा सभी को लक्षणों के अनुसार दवाओं की उपलब्धता सनिष्चित की जावे। इस अवसर पर प्रषिक्षु आईएएस मृदुलसिंह, सभी ब्लॉक मुख्य चिकित्सा एवं स्वा. अधिकारी तथा सभी चिकित्सा संस्थानों के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply