कोटा 11 मई । कोरोना की दूसरी लहर में कालाबाजारी व मुनाफाखोरी भी चरम पर है। जरूरत की चीजों के मनमाने दाम वसूले जा रहे है। खासकर इन दिनों ऐम्बुलेंस चालक मरीजों व शवों को लाने ले जाने में मनमाना किराया वसूल रहे है। मनमानी को रोकने के लिए परिवहन विभाग ने ऐम्बुलेंस व शव वाहनों का किराया निर्धारित किया है। ऐम्बुलेंस एवं शव वाहनों का 10 किमी का आने व जाने का किराया 500 रुपए तय किया है। 10 किमी के बाद अलग अलग श्रेणी की ऐम्बुलेंस वाहनों का किराया 12.50, 14.50 व 17.50 रुपए प्रति किमी तय किया है।

कंट्रोल रूम पर कर सकते है शिकायत

प्रादेशिक परिवहन अधिकारी कुसुम राठौड़ ने बताया कि ऐम्बुलेंस एवं शव वाहन संचालकों द्वारा परिवहन मुख्यालय द्वारा तय किये गये किराये से अधिक राशि वसूली शिकायत मिल रही थी। शिकायतों के समाधान के लिए प्रादेशिक परिवहन कार्यालय छत्रपुरा पर कंट्रोल रूम बनाया गया है। ऐम्बुलेंस व शव वाहन संचालक द्वारा तय किराये से अधिक किराया वसूली की शिकायत इन नम्बरों पर 0744-2363316 दर्ज करवायी जा सकती है।

विभाग की टीम ने किया डिकॉय ऑपरेशन

विभाग की टीम ने बोगस ग्राहक बनकर सुधा हॉस्पिटल झालावाड़ रोड़ कोटा के सामने खड़ी हुई ऐम्बुलेंस के चालक को मेडिकल कॉलेज अस्पताल से स्टेशन क्षेत्र के लिए एक शव को पहुंचाने के लिए फोन किया। ऐम्बुलेंस संचालक ने मेडिकल कॉलेज कोटा से स्टेशन क्षेत्र के 1500 रुपए चार्ज बताया।जबकि मेडिकल कॉलेज से स्टेशन क्षेत्र की दूरी मात्र 14 किमी है। नियमानुसार 10 किमी के 500 रुपए अतिरिक्त किमी 18 (आने व जाने) के 261 रुपये कुल 761 रू चार्ज बनता है। टीम के सदस्यों ने तय किराया से अधिक राशि मांगने पर ऐम्बुलेंस को सीज कर प्रादेशिक परिवहन कार्यालय छत्रपुरा पर खड़ा कर दिया।

Leave a Reply