जिले में कोरोना की दूसरी लहर से लोगों के मन में इस कदर डर बैठ गया है कि लोग खुद के संक्रमित होने का पता लगाने के लिये बिना डॉक्टर की सलाह के ही HRCT CT स्कैन करवा रहे है। CT स्कैन सेंटर्स पर इन दिनों लोगों की भीड़ नजर आ रही है। स्थिति ये की सरकार व निजी सेंटर पर सामान्य दिनों की तुलना में 10 गुना ज्यादा आंकड़ा बढ़ा है। खासकर निजी सेंटर पर बड़ी तादात में लोग जांच के लिए पहुंच रहे है।

सम्भाग के सबसे बड़े एमबीएस अस्पताल में सामान्य दिनों में 30 से 40 CT स्कैन होती थी। बीते 35 दिन में ये आंकड़ा प्रतिदिन 100 के आसपास पहुंच गया है। नए अस्पताल ( NMCH) में भी यही हाल है यहां भी प्रतिदिन 100 से ज्यादा लोग CT स्कैन करवाने पहुंच रहे है। एमबीएस अस्पताल के बाहर स्थित निजी जांच सेंटर में सामान्य दिनों में 10 से 12 जांच प्रतिदिन होती थी। बीते 35 दिनों में यहां प्रतिदिन 100 से ज्यादा CT स्कैन हो रही है। यही हाल झालावाड़ रोड स्थित एक निजी अस्पताल का है। यहां प्रतिदिन 60 से 70 लोग CT स्कैन जांच कराने पहुंच रहे है । इन 4 सेंटर पर बीते 35 दिनों में 10 हजार से ज्यादा लोग HRCT CT स्कैन करवा चुके है। जबकि शहर के अन्य जांच सेंटर पर भी लोगों की भीड़ नजर आ रही है ।

विशेषज्ञों की मानें तो इनमें 60% लोग ही ऐसे होते है । जिन्हें CT स्किन करवाने की जरूरत होती है। 40% लोग खुद को संक्रमित होने का पता कराने के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से जांच करवा रहे है। उन्हें इस बात की भी परवाह नही कि CT स्कैन के दौरान निकलने वाली किरणें शरीर के लिए कितनी घातक हो सकती है । जांच सेंटर पर कई लोगों को समझाया भी जाता है कि उनको CT स्कैन की जरूरत नहीं है।

Leave a Reply