Covid 19 में आयुर्वेदिक तरीका उन लोगों के लिए ज्यादा उपयोगी है जिन्हें कोविड का हल्का लक्षण है और जिनको होम क्वारंटाइन में रहने की सलाह दी गयी है।

कोविड के हल्के लक्षण दिखें तो आयुर्वेद द्वारा उसे ठीक किया जा सकता है।
Covid-19 होने पर सबसे पहले बुखार, खांसी और थकान सबसे सामान्य लक्षण हैं। हालांकि इस तरह के लक्षण दिखने पर डॉक्टरों को दिखाना और इलाज कराना जरूरी है लेकिन अगर आप अपने खान-पान और दिनचर्या में कुछ परिवर्तन करेंगे तो इससे आपकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी और आप इस श्वसन संबंधी संक्रमण से बचे रहेंगे।
हल्के लक्षण वाले कोविड से बचने के लिए आयुर्वेद में काफी कुछ बताया गया है। यह तरीका उन लोगों के लिए ज्यादा उपयोगी है जिन्हें कोविड का हल्का लक्षण है और जिनको होम क्वारंटाइन में रहने की सलाह दी गयी है। कोविड-19 के गंभीर लक्षण वाले लोगों को कोई नुस्खा अपनाने के बजाय जल्द से जल्द अपना इलाज कराना चाहिए।
हल्के कोविड-19 लक्षण वाले लोगों को क्या- क्या ध्यान में रखना चाहिए-

हाइड्रेशन-

,लोगों को सबसे पहले हाइड्रेशन पर ध्यान देना चाहिए। इसके लिए सूखी अदरक और तुलसी के पत्तों के साथ गर्म पानी लेना चाहिए। इसे बनाने के लिए सूखी अदरक को गर्म पानी में कुछ देर उबाल लें फिर उसमें तुलसी का पत्ता डालकर कुछ देर और उबालें और उसे पी लें। दिन में कई बार इसका सेवन फायदेमंद साबित होगा।इस पानी की भाप भी ली जा सकती है।

डाइट-
, ताजा पका हुआ गर्म खाना खाएं इसके अलावा दोपहर और रात में खाते समय माड़ या मूंग दाल का सूप बिना नमक, घी और तेल के लेना चाहिए। रात का खाना 7 बजे से पहले खा लें और जितनी बार भी खाना खाते हैं, सिर्फ आधा पेट ही खाना खाएं। खाने में मसाले के तौर पर दालचीनी, काली मिर्च, इलायची, सितारा सौंफ, लौंग और सूखी अदरक का प्रयोग करें।

नींद-

रात को लगातार 8 घंटे सोयें क्योंकि सोते वक्त शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने की प्रक्रिया शुरु होती है। ध्यान रहे कि दिन में ना सोयें।

फल- अगर कोविड का प्रत्यक्ष लक्षण दिखायी देता है तो फल खाना पूरी तरह बंद कर दें। लेकिन अप्रत्यक्ष लक्षण (जिसे म एसिम्पटोमेटिक कहते हैं) दिखाई दे तो अंगूर ,संतराऔर अनार जैसे फल खा सकते हैं।

सब्जियां-

सब्जियों को अच्छी तरह से पकाकर खाना चाहिए और कोई भी सब्जी कच्ची नहीं खाना चाहिए। यहां तक सलाद भी नहीं लेना चाहिए। सबसे ज्यादा करेला और लौकी जैसी सब्जियां खाएं। टमाटर, बैंगन, शिमला मिर्च जैसी सब्जियों का कम से कम सेवन करें।

आराम-

सही खाने-पीने के साथ- साथ आराम भी बहुत जरूरी है। अच्छे से आराम करें और आराम के वक्त को खुशनुमा बनाने के लिए आप किताबें पढ़ सकते हैं, गाने सुन सकते हैं, लोगों से बातें कर सकते हैं। इसके अलावा धूम्रपान और शराब का सेवन करने से बिल्कुल बचना चाहिए।

व्यायाम-
अगर आपको कोविड-19 का प्रत्यक्ष लक्षण है तो हल्का व्यायाम करें। योग भी ऐसी स्थिति में लाभ पहुंचाएगा इसलिए हर रोज प्रणायाम करें।

जड़ी बूटी

आप 100 एमजी का गिलोय जूस भी पी सकते हैं और यदि लगातार खांसी होती है, तो काली मिर्च पाउडर में शहद मिलाकर दिन में 3-4 बार लें। वहीं अगर आपको गले में दर्द या कंजेशन है, तो एक चम्मच हिमालयन पिंक सॉल्ट और सूखे हल्दी पाउडर लेकर गर्म पानी से गरारे करें।

हर्बल काढ़ा-
श्वसन संबंधी लक्षण हो तो काढ़ा पीएं। काढ़ा बनाने के लिए सबसे पहले दो गिलास पानी को अच्छी तरह उबालें। फिर उसमें आधा चम्मच त्रिकटु चूर्ण मिलाएं, जो बराबर मात्रा में सूखे अदरक पाउडर, काली मिर्च पाउडर और लंबे काली मिर्च पाउडर से बना होता है। थोड़ी देर उबालने के बाद उसमें तुलसी के पत्ते डालें और अगर अच्छे स्वाद के साथ पीना है तो उसमें पाम गुड़ डाल सकते हैं।
इन उपायों से लाभ नहीं हो रहा तो आयुर्वेद विभाग के आयुष 64 कैप्सूल, त्रिभुवन कीर्ति रस 1-1 गोली और सितोपिलादि चूर्ण 1-1 चम्मच च्यवनप्रॉश के साथ हल्दी से तैयार दूध के साथ लें। सकारात्मक सोच रखे ,विचलित न हो।सरकारी कोविड गाइड लाइन का पालन करें और घर में ही सुरक्षित रहे।

डॉ पीयूष त्रिवेदी,आयुर्वेद विशेषज्ञ, प्रभारी राजकीय आयुर्वेद चिकित्सालय, विधानसभा जयपुर।

Leave a Reply