– जीत के बाद उम्मीदवार नहीं निकाल सकेगा विजयी जुलूस, कोविड संबंधी सावधानी के चलते देर शाम तक मिल सकेंगे परिणाम

जयपुर, 01 मई । प्रदेश में हुए तीन विधानसभाओं के उपचुनाव के लिए रविवार को जिला मुख्यालयों पर कोविड संबंधी सभी दिशा-निर्देशों की पालना के साथ मतगणना करवाई जाएगी। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा नियोजित सभी सामान्य पर्यवेक्षक विधानसभा क्षेत्रों द्वारा मतणगणना स्थल का भी दौरा किया जा चुका है। सामान्य पर्यवेक्षकों के साथ आयोग ने रिजर्व पर्यवेक्षक भी भेजे हैं, वे भी क्षेत्रों में पहुंच चुके हैं। प्रदेश की राजसमंद, सुजानगढ़ और सहाड़ा विधानसभाओं में 17 अप्रैल को हुए चुनाव में 60.37 फीसद मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रवीण गुप्ता ने बताया कि सभी जिलों में स्थानीय प्रशासन निर्वाचन विभाग व भारत निर्वाचन आयोग से प्राप्त दिशा-निर्देशों के अनुसार सभी तैयारियां कर ली हैं। उन्होंने कहा कि मतगणना स्थल पर उन्हीं लोगों को अनुमति मिल सकेगी, जिनके पास डबल वैक्सीन प्रमाण पत्र होगा या उनके पास आरटीपीसीआर टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट होगी। उन्होंने कहा कि मतगणना के दौरान भी दो मतगणना एजेन्टों के मध्य 1 मतगणना एजेन्ट पीपीई किट में बिठाने की व्यवस्था की है, ताकि किसी भी हाल में संक्रमण का प्रसार ना हो सके।
गुप्ता ने बताया कि मतगणना हॉल में नियुक्त किए कर्मचारी या अधिकारी जैसे मतगणना पर्यवेक्षक, मतगणना सहायक, माईको पर्यवेक्षक तथा उम्मीदवार चुनाव एजेन्ट, मतगणना एजेन्ट एवं इनके साथ-साथ रिटर्निंग अधिकारी, सहायक रिटर्निंग अधिकारी एवं उनकी सहायता के लिए नियुक्त सभी कर्मचारी मास्क, फेस शील्ड एवं ग्लवज पहन कर रहेंगे। उन्होंने बताया कि प्रत्येक 5 राउन्ड के बाद कार्मिक हाथों को सैनिटाइजर से सैनिटाइज करेंगे।
गुप्ता ने कहा कि कोविड के चलते करीब 40 प्रतिशत मतदान केंद्रों की संख्या बढ़ाने, सभी ईवीएम मशीनों के मतदान केंद्रों पर लाने से पहले उन्हें सेनेटाइज करने, मतगणना के बाद 5-5 वीवीपैट मशीनों से प्राप्त पर्चियों की रैंडमली गणना करने की वजह से मतगणना में अतिरिक्त समय लग सकता है। उन्होंने कहा कि सुजानगढ़ में 30, सुहाड़ा में 28 और राजसमंद में 25 राउंड में मतगणना करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि पूर्व में दोपहर तक मतगणना के नतीजे आ जाते थे लेकिन इन सब कारणों के साथ कोविड के दिशा-निर्देशों के चलते अब देर शाम तक नतीजे आने की संभावना रहेगी। उन्होंने बताया कि जीत के बाद उम्मीदवार विजयी जुलूस नहीं निकाल सकेगा।

Leave a Reply