कोटा, 27 अप्रैल। चेचट थाना पुलिस ने प्रभु लाल भील हत्याकांड का पर्दाफाश कर दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी ने बताया कि 18 अप्रैल को फरियादी जगदीश पुत्र प्रभु लाल भील निवासी दावत खुर्द थाना रावतभाटा जिला चित्तौडग़ढ़ ने एक रिपोर्ट पेश की कि मेरे पिता प्रभु लाल 17 अप्रैल को दिन में करीब 2 बजे घर से खेड़ारुद्वा की तरफ निकले थे जो शाम को घर नहीं आए। 18 अप्रैल को करीब 5 बजे मुझे सूचना मिली कि खेड़ारुद्वा के पास वाले अलोद रोड पर पिताजी की लाश पड़ी मिली। पिता प्रभु लाल भील की लाश सड़क के किनारे झाडिय़ों में पड़ी थी उनके सिर पर खून बह रहा था। मेरे पिताजी की किसी अज्ञात व्यक्तियों ने सिर कुचलकर हत्या कर दी है। फरियादी की रिपोर्ट पर धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर अनुसंधान प्रारंभ किया गया। एसपी चौधरी ने बताया कि हत्या का पर्दाफाश करने के लिए एएसपी पारस जैन के सुपरविजन में टीम गठित की गई। पुलिस टीम को गहन जांच पड़ताल व तकनीकी अनुसंधान से पता चला कि घटना से पहले मृतक के साथ शराब पार्टी की गई थी। जिस पर शराब पार्टी में शामिल व्यक्तियों के नाम पता चलने पर उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। दोनों आरोपितों ने वारदात को अंजाम देना स्वीकार किया और बताया कि मृतक प्रभु लाल के दो बार शराब पिलाने के बाद भी पीछा नहीं छोड़ रहा था। इस बात पर कहासुनी हो गई। गाली गलौज के दौरान मृतक के गले में पड़ी साफी खींच देने तथा बेहोशी के बाद चेहरे को पत्थर से कुचल कर हत्या की गई है। पुलिस ने प्रभुलाल भील हत्याकांड में दो आरोपित रामविलास पुत्र जीतमल भील निवासी दावद खुर्द थाना रावतभाटा जिला चित्तौडग़ढ़ व दुर्गा लाल पुत्र नंदा भील निवासी किशनपुरा थाना मंडाना हाल दावद खुर्द थाना रावतभाटा जिला चित्तौडग़ढ़ को गिरफ्तार किया।

Leave a Reply