जयपुर, 24 अप्रैल । कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर अपने चरम पर है। ऐसे में कैंसर रोगियों को अपना विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर जयपुर के कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. ताराचंद गुप्ता ने शनिवार को बताया कि वे कैंसर रोगी जिनका वर्तमान में उपचार चल रहा है अगर वह कोरोना संक्रमित हो जाते हैं तो वह अपने कैंसर उपचार के बारे में अपने चिकित्सक से सलाह लें। इसके साथ ही कोरोना का उपचार दे रहे चिकित्सक से सम्पर्क कर उपचार की शुरुआत करें। कोरोना उपचार पूर्ण होने के बाद दोबारा कैंसर चिकित्सक से सम्पर्क करें।

डॉ. गुप्ता ने बताया कि कोरोना संक्रमण के अगर कोई गंभीर लक्षण नहीं हैं तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। इस स्थिति में होम आइसोलेशन की प्रक्रिया को अपनाएं। दिन में दो बार ऑक्सीजन लेवल और बुखार की जांच करें। ऑक्सीजन लेवल 90 से कम और तापमान 100 से अधिक हो तो तुरंत चिकित्सक से परामर्श लें। गंभीर लक्षण होने पर बगैर देरी के चिकित्सालय में भर्ती हों। होम आइसोलेशन के दौरान साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें। ताजा और पौष्टिक भोजन ही करें। खाने में विटामिन-सी और तरल पदार्थ का सेवन ज्यादा करें।

उन्‍होंने कहा कि कैंसर पेशेंट बिना डरे अपने चिकित्सक की सलाह के साथ कोविड वैक्सीन लगवाएं। कीमो और रेडिएशन थैरेपी के दौरान अगर ब्लड काउंटस नॉर्मल हो तो वैक्सीन लगवा सकते हैं। जिन रोगियों की हाल ही में सर्जरी हुई है, वह दो से तीन सप्ताह के बाद रिकवरी होने पर ही यह वैक्सीन लगवा सकेंगे। जिन रोगियों का ब्लड कैंसर का उपचार चल रहा है, उनके ब्लड काउंट कम हो तो ब्लड काउंट नॉर्मल स्थिति में होने के बाद ही वैक्सीन लगवाएं। जिन रोगियों में बोन ट्रांसप्लांट किया गया है वह रोगी ट्रांसप्लांट के तीन माह तक यह वैक्सीन नहीं लगावा सकते हैं। (ह‍ि.स.)

Leave a Reply