जयपुर। बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार रात सोशल मीडिया पर लाइव आकर आमजन से कोविड प्रोटोकॉल की पालना करने की अपील की। गहलोत ने कहा कि अचानक आई कोरोना की दूसरी लहर ने पिछले एक महीने से तबाही मचा दी। एक दिन में 33 मौत हो रही हैं। ये कोरोना घातक रूप लेकर बहुत तेजी से बच्चों युवाओं में भी फैल रहा है। श्मशान गृहों में वेटिंग हैं, खुले में अंतिम संस्कार करना पड़ रहा है। अस्पतालों के के बाहर एंबुलेंसों की लाइन लगी हुई । ऐसी डरावनी तस्वीर सामने आ रही हैं। हालांकि गहलोत ने कहा कि राज्य में पड़ौसी राज्यों से अच्छी स्थिति है। महाराष्ट्र में हालात खराब हो चुके हैं। आॅक्सीजन की कमी हो गई है। गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार नहीं चाहते थी कि वीकेंड कफ्र्यू लगाया जाए, लेकिन लोग लापरवाह हो गए समझाने के बावजूद नहीं मान रहे। चुनाव के दौरान तो सारी हदें पार कर दीं। ज्यूडिशिनरी ने भी चुनाव करवाने के लिए कहा। कुछ हद तक हम भी जिम्मेदार हैं।

बचाव ही है उपाय
गहलोत ने कहा कि हमे ये ध्यान रखना है कि कोरोना हो ही क्यों। बचाव ही उपाय है। ये दिमाग में रखें। महामारी की लड़ाई अस्पतालों में नहीं मैदान में लड़ी जाती है। कोरोना से बचाव का प्रोटोकॉल अपनाए। वैक्सीन की तरह मास्क लगाना प्रभावशाली है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी वैक्सीन की कमी है केन्द्र भेज नहीं रहा है। उन्होंने कहा कि मैंने भी वैक्सीन लगवा ली है, आप सभी को भी लगवानी है। सरकारी पूरी व्यवस्था करने में लगी हुई है। गहलोत ने जनता से आह्वान किया कि हौसला बुलंद रखें। सरकार साथ खड़ी मिलेगी। साथ ही उन्होंने अपील करते हुए कहा कि सरकार ने जो फैसले किए हैं, उसे लागू करने में सहयोग करें। ये नहीं हो कि पुलिस को सख्ती करनी पड़े। गहलोत ने कहा कि अगर जान बचाने के लिए अगर सख्ती करनी पड़ी तो करेंगे।

Leave a Reply