हेल्थ का विषय आते ही लोगों का ध्यान सबसे पहले अपनी प्लेट यानी डाइट पर जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं खाने से ज्यादा पीने की चीजें हमारी हेल्थ को डैमेज करती हैं. एक्सपर्ट कहते हैं कि मौजूदा समय में ऐसे कई ड्रिंक्स हैं, जिन्हें लोग हेल्दी मानकर पी रहे हैं. लेकिन असल में उनका रेगुलर कन्सप्शन सेहत के लिए खतरनाक है. ये टाइप-2 डायबिटीज समेत तमाम बड़ी बीमारियों का कारण बन सकते हैं.

प्रोटीन शेक– पोस्ट वर्कआउट के बाद लिए जाने वाले प्रोटीन शेक के फायदे से ज्यादा नुकसान होते हैं. इंस्टिट्यूट ऑफ कलिनरी एजुकेशन में डायरेक्टर ऑफ न्यूट्रिशन सेलिन बीचमैन कहते हैं, ‘मांस का सेवन न करने वाले लोगों को भी अपनी डाइट से पर्याप्त प्रोटीन मिल जाता है, फिर इसे लेना क्यों जरूरी है? प्रोटीन की ज्यादा मात्रा से किडनी पर बुरा असर पड़ता है. ये बॉडी में फैट भी बढ़ा सकता है.’

डार्क कलर का सोडा– सोडा में शरीर को फायदा देने वाला एक भी न्यूट्रिशन मौजूद नहीं है. इसके विपरीत डार्क कलर का सोडा हमारे लिए जानलेवा है. प्रसिद्ध डायटिशियन मीगन वॉन्ग कहते हैं कि डार्क सोडा में मौजूद फास्फॉरिक एसिड साधारण सोडा की तुलना में बेहद खतरनाक होता है. फास्फॉरिक एसिड से शरीर में कैल्शियम की मात्रा कम होती है, जिससे इंसान की हड्डियां कमजोर पड़ने लगती हैं.

एनेर्जी ड्रिंक– जिम या स्पोर्ट्स से जुड़े लोग एक्सर एनेर्जी ड्रिंक का इस्तेमाल करते हैं. क्या आप जानते हैं कि हाई कैफीन वाले एनेर्जी ड्रिंक थोड़ी देर के लिए आपकी एनेर्जी तो बूस्ट कर देते हैं, लेकिन लॉन्ग टर्म में इसके बड़े नुकसान होते हैं. सर्टिफाइड न्यूट्रिशनिस्ट एन रमार्क कहते हैं कि एनेर्जी ड्रिंग से इंसान की नींद पर बुरा असर पड़ता है. साथ ही ये स्किन में कोलेजन के प्रोडक्शन को भी बाधित करते हैं, जिससे प्रीमैच्योर स्किन एजिंग की समस्या होने लगती है.

मीठी चाय– कई प्रकार की चाय में हेल्दी एंटी ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं. हालांकि चाय में शुगर और कैफीन की ज्यादा मात्रा सेहत को नुकसान पहुंचाती है. ASYSTEM में रजिस्टर्ड न्यूट्रिशनिस्ट जे कोविन कहते हैं, ‘ज्यादा मीठी चाय न सिर्फ सिरदर्द बढ़ाती है, बल्कि अनिद्रा का कारण भी बनती है. इसमें शुगर का हाई अमाउंट मोटापा और टाइप-2 डायबिटीज जैसी बीमारियों को ट्रिगर करता है.’

मीठी कॉफी– मीठी कॉफी भी हमारी सेहत के लिए काफी नुकसानदायक है. एक लार्ज साइज मीठी कॉफी में करीब 500 कैलोरी होती है. यानी आप बेहद कम समय में खुद को एक्स्ट्रा कैलोरी से भर लेते हैं, जो कुछ घंटों बाद ही बॉडी में शुगर को जेनरेट करना

फ्रूट जूस– फ्रूट का नाम आते है किसी भी फ्रूट जूस को सेहतमंद मान लेना सही नहीं है. बाजार में बिक रहे पैकेटबंद जूस में कैलोरी और शुगर बहुत ज्यादा होती है. चूंकि ये एक लिक्विड फॉर्म में होता है, इसलिए लगभग पूरे डायजेस्टिव प्रोसेस से होकर गुजरता है और सीधे हमारे खून में शामिल हो जाता है. ये ब्लड शुगर को बढ़ाता है और इंसुलिन से जुड़ी समस्या को ट्रिगर करता है. शुरू कर देती है. ये भी मोटापे और डायबिटीज का खतरा बढ़ा सकती है.

Leave a Reply