रोजाना कम से कम 7 घंटे की चैन की नींद लेना बेहद जरूरी है. इससे आपका शरीर और दिमाग, दोनों सही तरीके से काम करते हैं. अगर शरीर को पर्याप्त नींद (Sleeping Facts) न मिले तो सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ता है. कुछ लोगों की नींद कई बार या रोजाना एक ही समय पर खुल जाती है. जानिए ऐसा क्यों होता है.

आखिर क्यों बार-बार खुलती है नींद 

कभी-कभी बीच रात में पानी पीने या टॉयलेट जाने के लिए उठना सामान्य है. लेकिन कुछ लोगों के साथ ऐसा रोजाना होता है. यह किसी बीमारी का संकेत या गलत आदतों का नतीजा हो सकता है. अगर किसी व्यक्ति को बिस्तर पर जाने के घंटों बाद तक नींद न आती हो या गहरी नींद लेने में / सोते रहने में समस्या महसूस हो रही हो तो इसके कई कारण (Sleeping Facts) हो सकते हैं.

कई बार आपकी गलत लाइफस्टाइल (Lifestyle) भी बड़ी बीमारी को न्योता दे सकती है. जानिए बीच रात में नींद खुलने के कारण और लक्षण.

देर शाम की कॉफी

 

कॉफी में मौजूद कैफीन (Caffeine) तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित कर आपको चौकस रखने का काम करता है. कॉफी एक साइकोऐक्टिव (Psychoactive) पदार्थ है, जिसका दुनियाभर में सबसे ज्यादा सेवन किया जाता है. अगर आप भी ऑफिस से आकर थकान उतारने के लिए देर शाम एक गर्म कॉफी पी लेते हैं तो यह शरीर की थकान उतारने के साथ ही बॉडी क्लॉक (Body Clock) को भी डिस्टर्ब करने का काम करता है. नींद पर कैफीन का बेहद बुरा प्रभाव पड़ता है.

एक पेग एल्कोहॉल

बहुत से लोगों का ऐसा मानना है कि रात में सोने से पहले अगर एल्कोहॉल का छोटा ड्रिंक लिया जाए तो नींद आने में मदद मिलती है. इसमें कोई शक नहीं कि एल्कोहॉल अवसादक (Depressant) होता है और इसलिए इसके सेवन से व्यक्ति को ऊंघाई आने लगती है और जल्दी सोने में मदद मिलती है. दरअसल एल्कोहॉल के सेवन के बाद नींद को बढ़ावा देने वाले केमिकल एडिनोसिन का उत्पादन शरीर में बढ़ जाता है.

हालांकि, यह केमिकल जितनी जल्दी बढ़ता है, उतनी ही तेजी से कम भी हो जाता है और इसलिए व्यक्ति की नींद पूरी होने से पहले ही बीच रात में नींद खुल जाती है.

स्लीप एपनिया

स्लीप एपनिया (Sleep Apnea) नींद से जुड़ी एक गंभीर बीमारी है, जिसमें आपके मुंह और गले के ऊत्तक वायुमार्ग (Tissue Airway) बंद हो जाते हैं. इससे सोते वक्त सांस लेने में रुकावट आने लगती है. ऐसे में आपका मस्तिष्क बार-बार आपको जगा देता है ताकि आप फिर से दोबारा सही तरीके से सांस ले पाएं. इसका सबसे असरदार इलाज है कि आप एक ऐसी ब्रीदिंग मशीन (Breathing Machine) लगाकर सोएं, जो आपको बार-बार उठने से रोक सके.

Leave a Reply