जीवन में हर कोई तरक्की करना चाहता है। यदि कोई व्यक्ति पितृ दोष से पीड़ित हो तो उसके जीवन में अनेक कठिनाई महसूस होती हैं। ऐसा हो तो कुछ आसान से कार्यों को करके पितृ दोष का निवारण किया जा सकता है।

पितृ दोष से मुक्ति के उपाय

1. मंदिर में जाकर हर रोज पीपल के पेड़ पर दूध-जल मिलाकर जल अर्पित करें। शाम के समय पीपल पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं। इस उपाय से पितृ प्रसन्न हो जाते हैं। पितृ देव के प्रसन्न होने पर पितृ दोष का प्रभाव खत्म होने लगता है।

2. शनिवार के दिन गाय के कच्चे दूध को किसी बिल्व पत्र पेड़ की जड़ पर थोड़ा सा चढ़ाएं एवं उसी पेड़ से 21 बिल्व पत्र तोड़कर ले आएं। ध्यान रखें बिल्व के पत्ते कहीं से भी खंडित न हों और जमीन पर न गिरे हों। बेलपत्र को घर लाकर पानी से साफ करें। अब तांबे या चांदी के एक लोटे में गाय के दूध को भर लें एवं थोड़े से काले तिल मिला लें। अब ये सभी सामग्री लेकर किसी शिव मंदिर में जाएं। अगर शिव मंदिर में शिवलिंग पीपल पेड़ के नीचे स्थापित हो तो सबसे उत्तम माना जाता है। शिव मंदिर में पहुंच कर सबसे पहले पीपल पेड़ पर थोड़ा सा दूध चढ़ाकर सात बार परिक्रमा करें। परिक्रमा के बाद शिवलिंग के सामने पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठें, हाथ जोड़कर अपने सभी ज्ञात-अज्ञात पितरों को याद कर प्रार्थना करें कि आपके मोक्ष की कामना से हम भगवान शिव शंकर जी की विशेष पूजा करने जा रहे हैं। इससे पितृ दोष का निवारण अवश्य ही होता है।

3. सबसे सरल उपाय है गाय का दूध। गाय के दूध से शिवलिंग का अभिषेक करें। बेलपत्र सहित सभी पूजन की सामग्रियों एक-एक पितृ दोष से मुक्ति की प्रार्थना करते हुए शिवलिंग पर अर्पित करें। इस उपाय और शिव कृपा से कुछ ही दिनों में पितृ दोष से होने वाली पीड़ा दूर हो जाएगी।

 

Leave a Reply