ब्रिटेन में आधे से अधिक महिलाएं 30 वर्ष के बाद मां बनने को तवज्जो दे रही हैं। इंग्लैंड और वेल्स में 1989 में जन्मी महिलाएं को लेकर एक रिपोर्ट जारी की गई है। यह रिपोर्ट ऑफिस फॉर नेशनल स्टैटिस्टिक्स (ओएनएस) ने रविवार को जारी की है। इसमें दावा किया गया है कि इंग्लैंड और वेल्स में कम उम्र (20-25 साल) में मां बनने की चाहत में कमी आई है।

1989 में इंग्लैंड और वेल्स में जन्म लेने वाली महिलाओं के आंकड़े बताते हैं कि हाल के दशकों में कम उम्र में मां बनने की चाहत में गिरावट आई है। ये आंकड़े उनकी दादी की पीढ़ी की तुलना के ठीक विपरीत हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 1989 के पहले की पीढ़ी में पांच में से सिर्फ एक महिला ही 30 के बाद मां बनती थीं, लेकिन मौजूदा में समय में ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। ओएनएस द्वारा रविवार को जारी किए गए आंकड़ों से यह भी पता चला है कि मां बनने की औसत संख्या में थोड़ी वृद्धि भी हुई है।

सेंटर फॉर एजिंग एंड डेमोग्राफी से अमांडा शर्फमैन ने कहा कि हमें बच्चे पैदा करने में देरी होती दिख रही है, क्योंकि 1989 में जन्म लेने वाली लगभग आधी महिलाएं अपने 30 वें जन्मदिन पर भी मां नहीं बन सकी थीं, जबकि उनकी दादी की पीढ़ी में पांच में से सिर्फ एक महिला ही 30 की उम्र तक मां नहीं बन पाई थीं।

लगातार बढ़ रहा चलन-  
हाल ही में बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं में इस तरह का चलन देखा गया है। इसके साथ ही यह चलन इस प्रवृत्ति को जारी रखने का संकेत देता है। हालांकि वर्ष 1995 में जन्मी बहुत कम महिलाएं ही 20 साल की उम्र में मां बनी। वहीं, शर्फमैन ने कहा कि 1935 में जन्मी महिलाओं के बीच परिवार को बढ़ाने चाहत में कमी देखी गई है। हालांक 1950 के दशक के अंत से परिवार का आकर दो बच्चों से नीचे रहा है।

70 के दशक से हुई बढ़ोतरी- 
ओएनएस के आंकड़ों से यह पता चलता है कि 1989 में पैदा हुईं 49 फीसदी महिलाएं 30 साल की उम्र तक मां नहीं बन पाई थीं। यह 1961 में जन्मी महिलाओं की तुलना में 38 प्रतिशत है, जबकि 1934 जन्मी महिलाओं की तुलना में 21 फीसदी है। ओएनएस ने यह भी दावा किया है कि 1970 के दशक के मध्य से मां बनने की औसत उम्र में बढ़ोतरी हुई है, जबकि यह साल 2019 में 30.7 साल की रिकॉर्ड ऊंचाई तक पहुंच गई।

Leave a Reply