योगी सरकार द्वारा लव जिहाद पर अध्यादेश ले आने के बाद कानपुर में हुए लव जिहाद के मामले में सुर्खियों में आ गए  हैं। अब तक की जांच में यह साफ हो चुका है कि 11 में से पांच मामलों में आरोपित एक-दूसरे से जुड़े थे। यह संख्या ज्यादा भी हो सकती है। अब पुलिस इनके एनसीआर कनेक्शन की पड़ताल कर रही है। ‘लवजेहादियों’ के पांच मामले ऐसे हैं, जिनमें वे लड़कियों को शहर से बाहर ले गए। एक लखनऊ और बाकी को एनसीआर में पनाह मिली। आखिर एनसीआर से इनका क्या रिश्ता था? आने-जाने और ठहरने पर हजारों रुपए खर्च हुए होंगे, वह किसने मुहैया कराए?

बाबूपुरवा में लव जेहाद का आरोपित सलमान पीड़िता को दिल्ली ले गया था। वहां रेप करने के बाद उसे वहीं छोड़कर भाग आया था। चकेरी में दर्ज रिपोर्ट के अनुसार आरोपित आदिल लड़की को पहले जबरदस्ती कचहरी ले गया। वहां जबरन कुछ कागजों पर दस्तखत कराए और गुड़गांव ले गया। वहां रेप किया। नौबस्ता में दर्ज रिपोर्ट के अनुसार आरोपित मोहम्मद आरिफ पीड़िता को आजमगढ़ ले गया था। वहां पर दो दिन रखने के बाद बस से दिल्ली ले गया था। रेप करने के बाद बस से उसे झकरकटी बस अड्डे लाया और वहां पर उसे छोड़कर चला गया।

दिल्ली में कई संगठन सक्रिय
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक यह जांच का विषय है कि कई आरोपित लड़कियों को लेकर दिल्ली-एनसीआर की तरफ ही क्यों गए। अगर कोई ऐसा संगठन है तो उसे इसी जांच में तलाशा जाएगा। जांच में इन आरोपितों के फंड मैनेजमेंट की भी तफसील से पड़ताल होगी।

लखनऊ में बिताए 15 दिन
नौबस्ता में लव जेहाद के दर्ज मामले में लड़की ने बयान दिया है कि वह घर से नाराज होकर चली गई थी। इसी दौरान उसने शाहरुख को मदद के लिए फोन किया। शाहरुख उसको अपने साथ लखनऊ ले गया था। जहां वह लोग 15 दिन रुके थे। जबकि गोविन्द नगर में लव जेहाद का आरोपित सद्दाम उसे अपने साथ पंजाब ले गया और रेप किया।

Leave a Reply