श्रीनगर/जयपुरजम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ कर भारतीय सीमा में आए एक क्वाडकॉप्टर को सेना ने मार गिराया। यह केरन सेक्टर में एलओसी के पास सुबह करीब आठ बजे उड़ान भरता दिखाई दिया था। उधर, राजस्थान के बाड़मेर में शनिवार को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का एक एजेंट जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया गया। उसे पूछताछ के लिए जयपुर लाया गया है।

गिराया गया ड्रोन चीन में बना

बताया जा रहा है कि एलओसी पर गिराया गया ड्रोन चीनी कंपनी डीजेआई ने बनाया है। कुछ समय से भारत से सटी सीमा पर लगातार पाकिस्तानी ड्रोन और क्वॉडकॉप्टर दिखाई देते रहे हैं। इनका इस्तेमाल जासूसी, भारतीय सैनिकों की स्थिति जानने, साथ ही हथियार और ड्रग्स भेजने में किया जा रहा है। पहले भी जम्‍मू-कश्मीर के पीर पंजाल रेंज में ड्रोन के जरिए आतंकवादियों के लिए हथियार भेजने के मामले सामने आए थे।

पिछले महीने जम्‍मू और राजौरी जिले में ड्रोन के जरिए भेजे हथियार बरामद किए गए थे। जून में जम्मू-कश्मीर के कठुआ के पनसर इलाके में बीएसएफ ने पाकिस्तानी ड्रोन को शूट कर दिया था। इस ड्रोन के जरिए आतंकियों के लिए हथियार भेजे गए थे। इसमें एक अमेरिकी राइफल, दो मैग्जीन और दूसरे हथियार थे। यह कंसाइनमेंट किसी अली भाई के नाम पर आया था।

आईएसआई कर रही साजिश

बीएसएफ की खुफिया विंग ने अगस्त में अलर्ट जारी कर बताया था कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास जम्मू-कश्मीर के आरएसपुरा और सांबा सेक्टरों में सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर बम गिराने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर सकता है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई इसकी योजना बना रही है।

हाई अलर्ट पर है सेना

पाकिस्तान की ओर से आतंकियों की घुसपैठ और उसके विशेष बल बॉर्डर एक्शन फोर्स (BAT) के हमलों की आशंका को देखते हुए भारतीय सेना हाई अलर्ट पर है। हाल ही में सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने कहा था कि पाकिस्तान आतंकवादियों को भारतीय क्षेत्र में भेजने के अपने नापाक मंसूबों को जारी रखने की कोशिश कर रहा है, लेकिन मोर्चे पर तैनात भारतीय सैनिक उन्हें नाकाम कर रहे हैं। पाकिस्तान सर्दियों में होने वाली बर्फबारी के कारण घुसपैठ के सभी संभावित रास्ते बंद होने से पहले आतंकियों को भारत में भेजने की कोशिश में है।

Leave a Reply