भोपाल, 08 अक्टूबर । राजधानी के शाहपुरा थाना क्षेत्र में 26 साल की एक विवाहिता से सोने के हार के लिए उसके प्रेमी द्वारा ज्यादती करने का मामला सामने आया है । आरोपित मंदसौर का कारोबारी है और उसकी पहचान सोशल मीडिया पर पीड़िता से हुई थी। आरोपित ने उसे बहाने से होटल में मिलने बुलाया था। हार लेकर नहीं आने पर प्रेमिका से जबरन ज्यादती की। जान से मारने की धमकी देते हुए मोबाइल फोन और पर्स छीन लिया। रोते हुए महिला टैक्सी से घर पहुंची और सोने का हार लाकर उसे दिया। देर रात पीड़िता ने पति के साथ आकर शाहपुरा पुलिस थाने में एफआईआर करवाई ।
शाहपुरा पुलिस के अनुसार 26 वर्षीय महिला मिसरोद थाना क्षेत्र में रहती है। उसका पति कुक है। उसने पुलिस को बताया कि फरवरी में उसकी पहचान मंदसौर में रहने वाले देवेंद्र जोशी से हुई थी। कुछ दिन तक उनकी सोशल मीडिया पर ही बातचीत होती रही। उसके बाद फोन पर दोनों के बीच बातचीत होने लगी। बुधवार सुबह करीब 8:30 बजे देवेंद्र का फोन आया। उसने कहा कि वह भोपाल आ गया है। शाहपुरा के होटल ओनीवाल पैराडाइज में रुका हुआ है। तुम अपना सोने का हार लेकर यहां आ जाओ।

पीड़िता के अनुसार उसने किसी भी तरह के हार होने की बात से इनकार कर दिया। लेकिन आरोपित ने लोकेशन भेजकर उसे होटल बुलवा लिया। होटल में पहुंचने पर देवेंद्र ने कहा कि उसे सोने के हार की जरूरत है। अगर वह हार नहीं देती है, तो वह उसे जान से मार देगा। इसके बाद पीड़िता के अनुसार देवेंद्र ने उससे होटल के कमरे में ही ज्यादती की। उसने मोबाइल फोन और पर्स रख लिया। जान से मारने की धमकी देते हुए, उसने एक टैक्सी करके उसे घर जाने के लिए मजबूर कर दिया। घर से लाकर उसने देवेंद्र को हार दे दिया। देवेंद्र ने कहा कि वह शाम 4 बजे तक हार लौटा देगा, लेकिन उसने उसे हार नहीं दिया ।
महिला ने जब देवेंद्र को फोन लगाया, तो देवेंद्र ने कहा कि अभी वह उज्जैन निकल गया है। 2 दिन में वहां से लौटकर हार दे देगा। इसके बाद पीड़िता ने उसे काफी गुजारिश की, लेकिन वह नहीं माना। परेशान होकर देर रात पीड़िता ने पति के साथ थाने पहुंचकर देवेंद्र के खिलाफ ज्यादती, चोरी और जान से मारने की धमकी देने का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। इधर, पुलिस के अनुसार गुरुवार सुबह महिला का पति थाने पहुंचा और उसने मामला वापस लेने की बात कही। हालांकि मामला दर्ज हो चुका है और आरोपित को गिरफ्तार भी कर लिया गया है। ऐसे में अब मामला वापस लिए जाने का कोई सवाल ही नहीं उठता है।

Leave a Reply