जयपुर 2 सितंबर । राजस्थान (Rajasthan) में तेजी से फैल रहे कोरोना संकट (COVID-19) के बीच चिंता को बढ़ाने वाली एक और खबर सामने आई है. कोरोना संक्रमण की लगतार चपेट में आ रहे पीड़ितों के लिये अब आईसीयू और वेंटीलेटर का संकट (ICU and ventilator crisis) गहराने लगा है. कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने से अब सरकार और पीड़ितों के सामने यह बड़ी समस्या आ रही है. इनके अभाव में मरीजों को बड़ी मुसिबतों का सामना करना पड़ रहा है.
सरकारी और निजी अस्पतालों दोनों में संकट
सूत्रों के मुताबिक आईसीयू और वेंटीलेटर के अभाव में सरकारी और निजी अस्पतालों दोनों में मरीजों का संकटों का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में मरीज जाए तो कहां जाए? हालांकि सरकार रोजाना हर बैड की ट्रेकिंग करने का दावा तो करती है, लेकिन आईसीयू और जीवन रक्षक उपकरणों को लेकर कोई साफ सुथरा जवाब उसके पास नहीं है. कहने को सरकार लगातार मामले पर फीडबैक ले रही है, लेकिन हालात कुछ ठीक नहीं कहे जा सकते हैं. आज भी सीएम अशोक गहलोत सीएमआर से वीसी के जरिये कोरोना की जिलेवार समीक्षा कर रहे हैं. वीसी में सभी कलेक्टर्स, एसपी और रेंज आईजी जुड़े हुये हैं. चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा और कोर ग्रुप के अधिकारी भी सीएम निवास से जुड़े हैं. इस वीसी में कोरोना संक्रमण रोकने के लिए कई अहम फैसले हो सकते हैं.
प्रतिदिन आ रहे हैं करीब 1300 से 1400 केस
उल्लेखनीय है कि राजस्थान में कोरोना के केसेज में लगातार इजाफा होता जा रहा है. प्रदेश में अब प्रतिदिन करीब 1300 से 1400 केस आ रहे हैं. आमजन के साथ ही बहुत से जनप्रतिनिधि भी इसकी चपेट में आ चुके हैं. संक्रमण को लेकिन जैसे-जैसे कोरोना की जांच का दायरा बढ़ता जा रहा है वैसे-वैसे संक्रमितों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है.

Leave a Reply