कोरोना की चैन तोडने के लिए सख्त कदम उठाने होंगे- जिला कलक्टर
कोटा 29 अगस्त। कोरोना संक्रमण की राकथाम के लिए किये जा रहे प्रयासों की समीक्षा बैठक जिला कलक्टर उज्जवल राठौड़ की अध्यक्षता में शनिवार को टैगोर सभागार मे आयोजित की गई। जिसमें प्रशासनिक, पुलिस एवं चिकित्सा विभाग के उपस्थित रहे। कोरोना की चैन तोडने के लिए नगर निगम क्षेत्र में आज रात्रि 8 बजे से 6 सितम्बर तक आवश्यक सेवाओं को छोडकर लॉक-डाउन रखने का निर्णय लिया गया।
जिला कलक्टर ने कहा कि कोरोना संक्रमण का लगातर बढना चिंताजनक है, आम नागरिकों के स्वास्थ्य एवं कोरोना संक्रमण की चैन तोडने के लिए प्रभावी कदम उठाने होगें। उन्होंने चिकित्सा सेवाओं की समीक्षा कर उपलब्ध संशाधनों का अधिकतम उपयोग करते हुए अस्पताल में कोरोना वार्ड में सभी व्यवस्थाऐं माकूल रखने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इस दौरान यदि किसी भी होम क्वारंेटाइन किये गये कोरोना पॉजिटिव रोगी द्वारा गाइड लाइन की अवहेलना की जावे तो सख्त कार्यवाही अमल में लायें। उन्होंने आवश्यकता पडने पर निजी अस्पतालों के अधिग्रहण की कार्यवाही भी शुरू करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि लॉक-उाउन के दौरान कोई भी नागरिक नियमों का पालन नहीं करे उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही कि जावे। घरों से अनावश्यक निकलने वाले अथवा मोहल्लों में एकत्रित होने वालों को भी पाबन्द करें।
बैठक में पुलिस अधीक्षक ग्रामीण शरद चौधरी, अतिरिक्त कलक्टर शहर आरडी मीणा, प्रशासन नरेन्द्र जैन, आयुक्त नगर निगम कोटा उत्तर वासुदेव मालावत, प्राचार्य मेडिकल कॉलेज डॉ. विजय सरदाना, अतिरिक्त कलक्टर सिलिंग एसएन आमेठा, एएसपी ग्रामीण पारस जैन, एएसपी शहर प्रवीण जैन, मुख्यालय राजेश मील, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. भूपेन्द्रसिंह तंवर, चिकित्साधिकारी डॉ निलेश जैन सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।
आमजन से अपील-
जिला प्रशासन ने आमजन से अपील की है कि कोरोना संक्रमण की चैन तोडने एवं आमजन के स्वास्थ्य को देखते हुए लॉक-डाउन के नियमों का पालन करें। कोरोना जांच के लिए नमूने दे चुके नागरिक रिपोर्ट आने तक अनावश्यक बाहर नहीं निकलें। होम क्वारेटाइन किये गये नागरिक गाइड लाइन की पूरी पालना करें।
किराना दूकानें रविवार को दोपहर तक खुलेगी-
जिला प्रशासन द्वारा आम नागरिकों की किराना सामान की आवश्यकताओं को देखते हुए निर्णय लिया गया है कि किराना की दूकानें रविवार 30 अगस्त को दोपहर दो बजे तक खूली रहेगी। आमजन आवश्यक सामान खरीद सकेगे।

लोक डाउन के दौरान यह रहेगी व्यवस्था:

लॉक-डाउन 29 अगस्त रात्रि 8 बजे से 6 सितम्बर रात्रि 12 बजे तक रहेगा।

लॉक-डाउन के दौरान आवश्यक सेवाओं को छूट रहेगी। जिनमें अस्पताल व नर्सिंग होम सेवाऐं, दवाओं की दूकाने, पट्रोल पम्प, गैस एजेंसी, दूध सप्लाई, डेयरी बूथ, फल-सब्जि दकानें व ठेले शामिल है। गंभीर बिमार व्यक्ति चिकित्सक की पर्ची के साथ आ-जा सकेगे।

लॉक-डाउन में शहर की थोक सब्जीमंडी में अब केवल थोक सब्जी क्रेता ही आ सकेंगे। आमजन व फुटकर विक्रेताओं का प्रवेश बंद रहेगा।

लॉक-डाउन के दौरान शहर में सार्वजनिक यातायात बंद रहेगा। राजकीय कार्यालयों के वाहन, अग्नि शमन वाहन, एम्बूलेस के आवागमन में छूट रहेगी। सरकारी कार्यालय में कार्मिक आईडी कार्ड के साथ प्रातः 9 से 11 बजे और सायं 5 से 7 बजे तक आ-जा सकेंगे।

लॉक-डाउन में शहर के पार्कों में प्रातः 9 बजे तक कोरोना प्रोटोकॉल की पालना के साथ भ्रमण किया जा सकेगा, उसके बाद बंद रहेंगे।

लॉक-डाउन के दौरान शहर में आयोजित होने वाली विभन्न परीक्षाओं के लिए आने वाले परिक्षार्थी अपने प्रवेश पत्र के साथ आ-जा सकेगे।

परिक्षार्थीयों को स्थानीय स्तर पर वाहनों में आने-जाने में छूट रहेगी पुलिस द्वारा जांच के समय परीक्षार्थी का प्रवेश पत्र दिखाना होगा।

परीक्षा केन्द्रों पर नियुक्त कार्मिकों को केन्द्राधीक्षक अथवा संस्थान द्वारा जारी नियुक्ति पत्र/ पहचान आते-जाते समय साथ रखना होगा।

लॉक-डाउन के औद्योगिक इकाईयों में कार्य यथावत जारी रहेगा, सम्बन्धित पारी में कार्मिक आ-जा सकेगें लेकिन उन्हें पहचान पत्र साथ रखना होगा। इस दौरान आटा चक्कियों को भी खोलने की छूट रहेगी।

लॉक-डाउन के दौरान ताजिए ठंडे करने के दौरान जिला प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों की पालना करते हुए पुलिस द्वारा अनुमत व्यक्ति ही आ-जा सकेगें तथा निर्धारित स्थान पर ठंडे कर अनावश्यक नहीं घूमेगे।

लॉक-डाउन के दौरान अनन्त चतुदर्शी पर गणेश प्रतिमाओं के विर्सजन के समय प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों की पालना की जायेगी, पुलिस द्वारा जारी लाइसेंसधारी नागरिक निर्धारित संख्यां में जा सकेगे। घरों में स्थापित गणेश प्रतिमाओं के विर्सजन के लिए केवल दो नागरिक अपने नजदीकी स्थान पर विर्सजन की परम्परा का निर्वहन कर सकेगे।

Leave a Reply