नई दिल्ली :संसद का मॉनसून सत्र 14 सितंबर से एक अक्टूबर तक आयोजित होगा. संसद की कार्यवाही बिना छुट्टी के चलेगी यानी सदन की कार्यवाही शनिवार और रविवार को भी होगी. कोरोना महामारी के इस दौर में सुबह एक सदन की और दोपहर को दूसरे सदन की बैठक होगी.संसद में रोज चार घंटे का एक सत्र होगा. जानकारी के अनुसार, संसद के मॉनसून सत्र में कुल 18 बैठकें होंगी. शनिवार और रविवार को भी बैठकें होंगी ताकि सांसद अपने संसदीय क्षेत्र में न जाएं. मॉनसून सत्र के दौरान कोरोना वायरस महामारी के मद्देनज़र जरूरी सारी एहतियात बरती जाएंगी. सांसद दोनों सदनों में बैठेंगे. लोकसभा और राज्य सभा के चैंबरों को केबल से जोड़ा जा रहा है.

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के बीच संसद का मॉनसून सत्र कराने के लिए कई विकल्पों पर विचार गया था. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैय्या नायडू और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने इस मसले पर बैठक की थी. बैठक कोरोनावायरस महामारी के कारण सोशल डिस्‍टेंसिंगबनाये रखने और आभासी संसद की संभावना जैसे विषयों एवं विकल्पों के बारे में चर्चा की गई थी. उच्च और निचले सदन के अध्यक्षों ने इस बात को रेखांकित किया था कि ऐसी स्थिति में जब नियमित बैठकें संभव नहीं हैं, तब संसद सत्र को सुगम बनाने के लिए प्रौद्योगिकी को अपनाने की जरूरत है.

Leave a Reply