– भारत में यह पहला मामला, शोध के लिए सैंपल सुरक्षित किया गया

अहमदाबाद, 26 अगस्त । अहमदाबाद की एक महिला को 124 दिन में दोबारा कोरोना होने की पुष्टि हुई है। इस खबर से हड़कंप मच गया है। महिला के सैंपल को शोध करने के लिए सुरक्षित कर लिया गया है। गुजरात में मार्च-अप्रैल में दानिलिमडा क्षेत्र कोरोना का हॉटस्पॉट बना था। उस समय यहां रहने वाले दंपति ने कोरोना परीक्षण कराया था। दोनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर 18 अप्रैल को सिविल अस्पताल में भर्ती कराए गए। पति-पत्नी का आठ दिन बाद पुन: परीक्षण किया गया। पत्नी की रिपोर्ट नकारात्मक आई और उसे 27 अप्रैल को छुट्टी दे दी गई। पति 25 दिन बाद छुट्टी दी गई। इसके बाद जोड़े के एंटीबॉडी का परीक्षण नहीं किया गया। 08 अगस्त को महिला का भाई दिल्ली से अहमदाबाद उनके यहां आया। वह दिल्ली में वायुसेना में कार्यरत है। दस दिन के प्रवास के दौरान भाई को बुखार आने पर उसका परीक्षण किया गया तो कोरोना पॉजिटिव निकला। उसे शाहीबाग छावनी अस्पताल में भर्ती कराया गया। भाई के संपर्क में सभी परिवार के सदस्यों को सूचित किया गया। महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो उसे रतन अस्पताल में भर्ती कराया गया। महिला का पहला एंटीबॉडी परीक्षण नकारात्मक था और कोविड परीक्षण सकारात्मक था।रतन अस्पताल में विजिटिंग डॉ प्रज्ञेश वोरा ने बताया कि हमने एसवीपी, आईसीएमआर और वायरोलॉजी लैब पुणे को सूचित किया है कि महिला को दोबारा कोरोना होने की पुष्टि हुई है। आईसीएमआर डॉक्टर के अनुसार यह भारत में पहला मामला है। इसी तरह का एक मामला हांगकांग में भी सामने आया था। हमारे पास महिला का पहला वाला नमूना नहीं है, लेकिन दूसरी बार लिया गया उसका सैंपल शून्य से 8 डिग्री के तापमान पर संग्रहित है। इस नमूने को आगे के शोध के लिए भेजा जाएगा।

Leave a Reply