जयपुर, 25 अगस्त । चौमूं थाना इलाके में मंगलवार को जयपुर कमिश्नरेट की स्पेशल टीम (सीएसटी),रसद विभाग,सेलटैक्स,जीएसटी विभाग ने एक साथ की छापेमारी की कार्रवाई करते हुए नकली डीजल बनाने की फैक्ट्री का भंडाफोड किया है। पुलिस ने फैक्ट्री मालिक को भी गिरफ्तार कर 27 सौ लीटर तैयार नकली डीजल सहित 10 हजार 700 लीटर पट्रोलियम पदार्थ जब्त भी किया है। फिलहाल आरोपित से पूछताछ की जा रही है।

जयपुर पुलिस आयुक्त आंनद श्रीवास्तव ने बताया कि नकली डीजल बनाने की शिकायतें आ रही थी। मुखबिर से पता चला कि चौमूं थाना इलाके के जैतपुरा गांव में अर्जुनलाल यादव ने काले ऑयल को रिफाईण्ड करने की फैक्ट्री लगा रखी है, इसमें अवैध तरीके से नकली डीजल बनाकर बाजार में अपने डीलरों के माध्यम से सस्ती दर से बेचा जा रहा है। यादव ने इसी प्रकार के करीब एक दर्जन प्लांट लगाकर अन्य लोगों के दे रखे हैं, जिनके द्वारा भी इसी प्रकार का काम किया जा रहा है।
अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त सुलेश चौधरी ने बताया कि जयपुर कमिश्नरेट की स्पेशल टीम (सीएसटी),रसद विभाग,सेलटैक्स,जीएसटी विभाग ने एक साथ की छापेमारी की कार्रवाई करते हुए अर्जुन लाल यादव की जैतपुरा की फैक्ट्री मां वैष्णो पैट्रो ल्यूब पर दबिश दी गई।

कार्रवाई के दौरान फैक्ट्री में काले ऑयल को रिफाइन करने के नाम पर अवैध रूप से करीब 2700 लीटर तैयार नकली डीजल सहित 10 हजार 700 लीटर पट्रोलियम पदार्थ, 100 क्विंटल क्ले (मिट्टी) एवं 25 क्विटंल काली मिट्टी एवं अन्य उपकरणों को जब्त कर फैक्ट्री को सील किया गया। वहीं फैक्ट्री मालिक अर्जुनलाल यादव (50) निवासी ठेरकिया की ढाणी जैतपुरा चौमूं को गिरफ्तार किया गया है। फैक्ट्री मालिक अर्जून लाल यादव केवल अपना नाम लिखना जानता है इसके अतिरिक्त कोई तकनीकी ज्ञान नहीं है। फैक्ट्री पर काम करने वाले मजदूर भी कोई तकनीकी रूप से जानकार नहीं है। प्लांट को आबादी के मध्य चलाया जा रहा था।
पुलिस ने बताया कि आरोपित चोरी छिपे काॅले तेल को बिना बिल के मंगवाना एवं उससे अवैध तरीके से नकली डीजल तैयार कर बेचान कर रहा था जिससे राज्य सरकार को भारी मात्रा में राजस्व की हानि हो रही थी। आरोपित ने रिफाईन प्लांट करीब पांच साल से लगा रखा है, जिसमें वर्तमान में डीजल की रेट अधिक होने पर बडे स्तर पर अवैध तरीके से नकली डीजल तैयार करने लगा।
पूछताछ में सामने आया कि आरोपित प्लांट में वाहनों के ईंजन से निकला काला ऑयल को रिफाईन करने के नाम पर आरोपी द्वारा उक्त काॅले ऑयल से भारी भरकम बायॅलर प्लांट से क्ले मिट्टी से 400-450 डिग्री तक गर्म किया जाकर नकली डीजल तैयार कर मार्केट में 52-54 रूपये प्रति लीटर की दर से अपने पेडलरों के माध्यम से बेच रहा था। आरोपित प्रतिदिन उक्त प्लांट से काले तेल से करीब 4 हजार लीटर डीजल व अन्य पट्रोलियम उत्पाद तैयार करता है डीजल को मार्केट में लम्बे रूट पर चलने वाली बसो, ट्रक वालों एवं पिकअप चालकों को बेचता था।
जीएसटी चोरी किये जाने का खुलासा
इधर मौके पर कार्रवाई में उपस्थित प्रर्वतन निदेशक,चौमू, जिला रसद कार्यालय जयपुर द्वितीय एवं सेलटैक्स विभाग एवं जीएसटी विभाग जयपुर के द्वारा प्रारम्भिक जांच में फैक्ट्री मालिक द्वारा करोडो रूपये की राजस्व की चोरी एव जीएसटी की चोरी किये जाने का खुलासा हुआ है जिसकी संबंधित विभागो के द्वारा पृथक से कार्रवाई की जा रही है।
राजस्थान के अन्य जिलों में भी लगा रखी है फैक्ट्रीयां
आरोपित अर्जुन लाल यादव से पुछताछ में सामने आया कि उसने राजस्थान के अन्य जिलों में भी इसी प्रकार की फैक्ट्रीयां लगा रखी है जिस पर पुलिस ने सूचना एकत्रित कर बगरू ,केसवाना कोटपुतली (जयपुर ग्रामीण), मदनगंज रीको एरिया (अजमेर), बीकानेर, भीलवाडा एवं हनुमानगढ जिलों में भी छापेमारी कार्रवाई की है।

Leave a Reply