कोटा 25 अगस्त। जिला कलक्टर उज्जवल राठौड़ की अध्यक्षता में मंगलवार को टैगोर सभागार में शहर के सभी सरकारी चिकित्सा संस्थानों के प्रभारी अधिकारियों की बैठक लेकर कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रभावी भूमिका निभाने तथा होम क्वारेंटाईन किये गये रोगियों के लिए गाईडलाईन की पालना के अनुसार उपचार प्रदान करने के निर्देश दिए।
जिला कलक्टर ने कहा कि सभी चिकित्सा अधिकारी आपसी समन्वय व टीम भावना के साथ कोरोना संक्रमण रोकने के लिए कार्य करें, जो भी उत्तरदायित्व दिए जाये उसकी समय पर पालना सुनिश्चित हो। उन्होंने कहा कि होम क्वारेंटाईन किए गए सभी नागरिकों की प्रतिदिन जांच व संपर्क बनाये रखना सुनिश्चित करते हुए कोरोना गाईडलाईन के तहत जारी निर्देशों की पालना करायें। उन्होंने कहा कि चिकित्सा संस्थान के क्षेत्र में निवासरत् नागरिक के पॉजिटिव पाये जाने पर तत्काल उससे संपर्क कर होम क्वारेंटाईन की सुविधा का आकलंन कर सुविधा नहीं होने पर उसे कोविड केयर सेंटर अलनिया में भिजवाना सुनिश्चित करें । उन्होंने गंभीर रोगियों को मेडिकल कॉलेज में भिजवाने तथा प्रतिदिन जांच के समय उसे दी गई सलाह की पालना का भी निरीक्षण करने के निर्देश दिये। अतिरिक्त कलक्टर शहर आरडी मीणा ने नियंत्रण कक्ष के द्वारा दी जाने वाली सूचनाओं पर त्वरित कार्यवाही करने तथा निरन्तर एक-दूसरे से सम्पर्क में रहने के निर्देश दिये।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. भूपेन्द्र सिंह तंवर ने कहा कि सभी चिकित्सा अधिकारी होम क्वारेंटाईन किये गये रोगियों के लिये नियमित जांच व गाईडलाईन की पालना पर विशेष ध्यान दे। उन्होंने चिकित्सा विभाग द्वारा जारी की जाने वाली गाइड लाइन की प्रति होम क्वारेंटाईन किये गये रोगियों को उपलब्ध कराने तथा परिजनों को भी बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में विस्तार से बताने के निर्देश दिए।
मेडिकल कॉलेज के डॉ. निलेश जैन ने कहा कि लक्षण नहीं दिखाई देने वाले रोगियों को होम क्वारेंटाईन या कोविड केयर सेंटर पर भिजवाना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि पॉजिटिव पाये जाने पर संबंधित नागरिक की जानकारी मिलते ही उसे तुरंत गाईडलाईन की पालना करायें। उन्होंने होम आइसोलेशन के रोगियों को दी जाने वाली दवाओं, सावधानियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर गैप होने पर संक्रमण फैलने का अंदेशा रहता है ऐसे में आपसी संवाद बनाये रखें। उन्होंने बताया कि रोगी द्वारा नियमित रूप से भाप श्वांस के लिए बताया जावे। अतिरिक्त मुख्य एवं चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मीणा ने मिशन लीसा के तहत हाई रिस्क के गु्रप का सर्वे करने तथा ऐसे नागरिकों को तुरंत अस्पताल पहुंचाने के निर्देश दिए।
पहचान दस्तावेज के बाद ही जांच-
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर प्रवीण जैन ने सुझाव दिया कि किसी भी नागरिक की कोरोना जांच के दौरान उसका पहचान-पत्र का दस्तावेज अनिवार्य किया जाये जिससे पॉजिटिव पाये जाने पर तुरन्त संपर्क किया जा सके। उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में पुलिस द्वारा सक्रियता से सहयोग प्रदान किया जायेगा।
अनन्त चतुदर्शी का रहेगा अवकाश
कोटा 25 अगस्त। जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्टेेट ने जिले में मंगलवार 1 सितम्बर को अनन्त चतुदर्शी का सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है।

Leave a Reply