राजस्थान में सियासी संकट थमने के बाद हाईकोर्ट ने छह बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय के मामले में अहम फैसला सुनाया है। सोमवार (24 अगस्त, 2020) को कोर्ट ने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और भाजपा नेता मदन दिलावर की याचिकाओं को खारिज कर दिया। जस्टिस महेंद्र गोयल की एकल पीठ ने कहा कि इस संबंध में अंतिम फैसला विधानसभा अध्यक्ष ही करेंगे। कोर्ट ने इस संबंध में बसपा से विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष याचिका दायर करने के लिए कहा है। इसके अलावा भाजपा नेता की याचिका पर मैरिट के आधार पर सुनवाई कर फैसला देने के लिए निर्देश दिए हैं।

विधानसभा अध्यक्ष का पक्ष रखने वाले वकील ने बताया कि अदालत ने मदन दिलावर की रिट याचिका का निपटारा करते हुए विधानसभा अध्यक्ष से 16 मार्च को दर्ज की गई शिकायत पर सुनवाई करने और तीन महीने के अंदर इसे गुण दोष के आधार पर निपटाने को कहा है।  दिलावर ने छह विधायकों- संदीप यादव, वाजिब अली, दीपचंद खेरिया, लाखन मीणा, जोगेंद्र अवाना और राजेंद्र गुढ़ा के कांग्रेस में विलय को चुनौती दी है।

Leave a Reply