देशभर के साथ शनिवार को जहां पंजाब में भी 74वां स्वतंत्रता दिवस मनाया जा रहा है, वहीं जालंधर में माहौल कुछ वक्त के लिए इसके उलट हो गया। आज यहां खुद को गुलाम मानने वाले शिरोमणि अकाली दल अमृतसर के लोगों ने डॉ. भीम राव अंबेडकर चौक पर खालिस्तान के समर्थन में नारे लगाए। सूचना पाकर तुरंत मौके पर पहुंचकर माहौल बिगाड़ने वालों को खदेड़ा। इनकी तरफ से लगाए गए काले झंडे हटवाए। कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

शिरोमणि अकाली दल अमृतसर के नेता सरबजीत सिंह ने कहा कि हालांकि देश 1947 में आजाद हो गया था, लेकिन देश में अल्पसंख्यक अभी भी गुलामी का जीवन जी रहे हैं। सिखों के खिलाफ अत्याचारों पर ध्यान नहीं दिया गया। यही वजह है कि आज भी जिन सिखों के बच्चों को जेल में डाला गया है, सजा पूरी हो जाने के बाद भी सरकारों द्वारा उन्हें रिहा नहीं किया जा रहा है। यही कारण है कि आज वो आजादी दिवस की बजाय काला दिवस मना रहे हैं।

आरोपी प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेकर बस में बिठाती पुलिस।

दूसरी ओर जालंधर पुलिस के डीसीपी गुरमीत सिंह ने बताया कि प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया है। उनके खिलाफ 188 का उल्लंघन करने, चेहरे को कवर नहीं करने और सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

जालंधर में डॉ. भीम राव अंबेडकर चौक पर काले झंडे लहराकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते शिरोमणि अकाली दल अमृतसर के कार्यकर्त्ता